Mar 27, 2008

Desi Choot Ki Chudai

Mar 27, 2008
ये वैभव और उसके दोस्त की बीवी की चुदाई की सच्ची काहानी है. वैभव जब बैंक मी काम करता था. उसका वह एक दोस्त बन गया Mr R( not real name) और वो भी पक्का. अब वो एक साथ खाते और एक साथ पीते थे. कुछ दीनो के बाद वैभव अपने दोस्त के घर पर गया. Mr R ने उसकी मुलाकात अपनी बीवी से करवाई.


फीर उसका हर सन्डे को उनके यह आना जान हो गया. वैभव ने उसकी बीवी को बहुत बार गुमसुम देखा जेसे वो अपने पती से खुश नही है. उसने एक दीं जान बूझ कर ओफीस से छुट्टी ले ली. और Mr R के घर पर दीन मे अकेले गया. उसकी बीवी उनको अकेला देख चौक गयी. वैभव ने कहा उंदर तो बुलाओ भाबी जी. वो उंदर गया और चाए पानी पीया. फीर कुछ देर बाद वैभव ने बात शुरू की और कहा भाबी आप के चहरे पर वो मुस्कान नही दीखाई देती . उसने कहा कुछ नही बस ऐसे ही. उसने कहा देखो मे आपके दोस्त की तरह हू आप मुझे बताओ क्या मे आपकी कुछ हेल्प कर सकता हू. उसने कहा ऐसी कोई बात नही. फीर दुबारा उसने पूछा तब उसने कहा की वो मुझे डांटते रहते है और ठीक से प्यार भी नही करते. मेरे दोस्त ने कहा मी जनता था की यही बात होगी.


उसने कहा भाबी अब आप साफ साफ बताओ की क्या वो आपको वो ख़ुशी पूरी तरह नही दे पाते . फीर वो रोने लगी और कहा की क्या बताऊ वो ठीक तरह से नही कर पाते. वैभव ने कहा की आज कल ऐसी बहूत सी ओरत है जीन्के साथ यह प्रॉब्लम है पर वो तो ऐसे नही रोंती. तो तुम ही बताओ की मी क्या करू. वैभव ने कहा मे आपको वो प्यार दे सकता हू. वो चोक गई, वैभव ने कहा इसमे कोई बुराई नही है सभी ऐसे ही करती है. आप का कोई दोस् नही. फीर उसने कहा आप बे फीक्र हो जाइये कीसी को कानो कान खबर नही होगी. उसने कहा ऐसा पोस्सिब्ले है. वैभव ने कहा क्यो नही. दुसरे सप्ताह मे आपके घर पर आऊँगा और आपको वो सब प्यार दूंगा बास आप तैयार रहना.

अगले सप्ताह ठीक उसी दीं वो घर पर ओफीस से छुट्टी ले कर आया. उसने हमे बताया की मेने नहाया और केवल पाजामा और टी शर्ट पहन कर उसके घर गया. उंदर उन्देर्वेअर भी नही पहनी थी. उसकी बीवी ने गेट खोला और उसे उंदर बुला लीया. फीर धीरे धीरे दोनो मे प्यार की बाते होने लगी. फीर वैभव ने उसकी चुम्मी ली. वो सहम गयी पर फीर उसने उसकी होटो की दुबारा छुम्मी ली, उसने अपनी आँखे बंद कर ली. दो ने चुम्मा चाटी मे मस्त हो गए . एक दो मीन्ट तक वो दोनो चुम्मा चाटी करते रहे. वैभव ने उसके चूचो को मसला और वो आहे भरने लगी. फीर कुछ देर बाद वैभव ने उसकी ब्रा उतारी और उसके चूचो को चूसने लग गया, दबाने लग गया. अप वो पूरी तरह से गरम हो चुकी थी.


अब उनसे उसका पेटीकोट और फीर चड्डी उतार दी वो पूरी तरह से नंगी हो गयी थी. वैभव ने भी अपने सारे कपडे उतार दीये. फीर दोनो मी कुछ देर तक चुम्मा चाट, चूचे दबाना और उन्गल बाजी करना होता रहा . अब दोनो का जोश उफान पर था और वो छूत की चुदाई के लीये तड़प रही थी. वो उसको पलंग पर ले गया और कोहीनूर डोट्ड नीरोध लगा कर उसकी छूत मे अपना लंड घुसेडा. वो आह ऊह करती रही, फीर क्या था दोनो मी छूत की चुदाई का काम जोरो से चलने लगा.



वैभव ने उसकी पत्नी को पूरी तरह से छूत के चुदाई के मजे दीला दीये. पर बाद मी वो रोने लगी. फीर वैभव ने उसे समझाया की कुछ नही होगा. और वह से चला गया. फीर तो महीने मी उसके दो चक्कर होने लगे उसके घर के और वो खूब चूत की चुदाई के और भाबी की चूत के चुदाई के मजे लेने लग गया. ये काफी दीनो तक चला और फीर एक दीं वो उसका दोस्त आपनी बीवी के साथ दूसरी जगह चला गया ।

0 comments:

Post a Comment

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...